You are here

उम्र बढ़ाने वाला पेड़ – अकबर बीरबल की कहानी | Hindi kahaniya

उम्र बढ़ाने वाला पेड़ | Umar Badhane Waala Ped – अकबर बीरबल

की कहानी | Hindi kahaniya

एक समय की बात है जब बादशाह अकबर का परचम पूरे विश्व में फैलने लगा था। उसी दौरान तुर्किस्तान के बादशाह को अकबर की बुद्धिमत्ता की परीक्षा लेने की सूझी। उसने एक दूत को पत्र देकर सिपाहियों के साथ दिल्ली भेजा। 

पत्र का मजमून कुछ इस प्रकार था- ‘अकबरशाह! मुझे सुनने में आया है कि आपके भारततवर्ष में कोई ऐसा पेड़ पैदा होता है जिसके पत्ते खाने से मनुष्य की आयु बढ़ जाती है। यदि यह बात सच्ची है तो मेरे लिए उस पेड़ के थोड़े पत्ते अवश्य भिजवाएं.’

उम्र बढ़ाने वाला पेड़ | Umar Badhane Waala Ped - अकबर बीरबल की कहानी | Hindi kahaniya

जब अकबर ने उस पत्र को पढ़ा, तो वह सोच में पड़ गए। इस चिंता से उबरने के लिए अकबर ने बीरबल का सहारा लिया। बीरबल की सलाह पर बादशाह अकबर ने तुर्किस्तान से आए सिपाहियों और दूत को कैद करने का आदेश दिया। इस प्रकार कैद हुए उनको कई दिन बीत गए तो बादशाह अकबर बीरबल को लेकर उन कैदियों को देखने गए।

Also read: अलादीन और द मैजिक चिराग – Aladdin ki kahani – HIndi Kahaniya

अकबर और बीरबल को आते देख कर वो सोचने लगे कि उन्हें रिहाई मिल जाएगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

बादशाह उनके पास पहुंचकर बोले -‘तुम्हारा बादशाह जिस वस्तु को चाहता है, वह मैं तब तक उसे नहीं दे सकूँगा जब तक कि इस सुद्ध किले की एक-दो ईट न ढह जाए, उसी वक्त तुम लोग आजाद किए जाओगे। ऐसा होने तक आप सभी के लिए यहां खाने-पीने का पूरा इंतजाम किया जाएगा।’ इतना कहकर बादशाह अकबर और बीरबल वहां से चले गए।

उनके जाने के बाद दूत और सिपाही कैद से निकलने के लिए उपाय सोचने लगे। जब कोई रास्ता नजर नहीं आया, तो भगवान से प्रार्थना करने लगे। अंत में वे इश्वर की वन्दना करने लगे ‘हे भगवान! क्या हम इस बन्धन से मुक्त नहीं किए जाएंगे? क्या हमारा जन्म इस किले में बन्द रहकर कष्ट भोगने के लिए हुआ है।आप तो दीलानाथ हैं, अपना नाम याद कर हम असहायों की भी सुध लीजिए।’ इस प्रकार वे नित्य प्राथना करने लगे।

जल्द ही उनकी प्रार्थना रंग लाई और कुछ दिनों बाद अचानक तेज भूकंप आया और भूकंप के कारण किले का एक भाग टूटकर गिर गया। यह घटना के बाद दूत ने अकबर के पास किले की दीवार गिरने की खबर भिजवाई।

Read more: गरीब मेमने – The Poor Lamb – Panchatantra stories in hindi

बादशाह को अपनी कही हुई बात याद आ गई। इसलिए उन्होंने दूतको उसके साथियों सहित दरबार में बुलाकर बोले -‘अब तो आप सबको अपने बादशाह के द्वारा भेजे गए पत्र का उत्तर मिल गया होगा। अगर अब भी आपको समझ नहीं आया है, तो मैं समझा देता हूं। तुम सिर्फ 100 लोग हो और तुम्हारी आह सुनकर किले का एक हिस्सा गिर गया, तो सोचो जिस देश में हजारों लोगों पर अत्याचार होते हैं, उस देश के बादशाह की आयु कैसे बढ़ेगी।

उसकी तो आयु घटती ही चली जाएगी और लोगों की आह से उसका शीघ्र हीपतन हो जाएगा। हमारे राज्य में अत्याचार नहीं होता, गरीय प्रजा परअत्याचार न करना और भली भांति पोष्ण करना ही आयुवर्धक वृक्ष है।बाकी सारी बातें मिथ्या हैं।

इस प्रकार समझा-बुझाकर बादशाह ने उस एलची को उसके साथियों सहित स्वदेश लौट जाने की आज्ञा दी और उनका राह-खर्च भी दिया। उन्होंने तुर्किस्तान में पहुंचकर यहां की सारी बातें अपने बादशाह को समझाईं। अकबर की शिक्षा लेकर बादशाह दरबारियों सहित उनकी भूरि-भुरि प्रशंसा करने लगा।

Read more: Famous Akbar-Birbal Stories In Hindi | अकबर-बीरबल की प्रसिद्ध कहानियाँ

कहानी से सीख: 

इस कहानी से यह सीख मिलती है कि सभी के साथ प्रेम से रहना चाहिए और कमजोर पर अत्याचार नहीं करना चाहिए। साथ ही वही देश तरक्की करता है, जहां प्रजा सुखी रहती है।

अगर आपको ये hindi kahani पसंद आई हो तो शेयर और कमेंट जरूर करें।

One thought on “उम्र बढ़ाने वाला पेड़ – अकबर बीरबल की कहानी | Hindi kahaniya

Leave a Reply

Top